Sticky post

गुज़रते हुए पल

गुज़रते हुए हर पल को महसून किया था एक बरस के समानजाने कैसे आज एक बरस लग रहा है जैसे एक पल ही तो था छोटे क़दमों से चल के एक राह काटी जहाँ आने तकवह समां लग रहा कुछ खाली और तनहा सा शुरू किया था जब ये सफर, लम्बा था रास्ता बहुत उदासी थी दिल मेंअब वो काट गया है तो आगे का भय सा है फिर कल को ले कर न जाने हर पल तुम्हारे बिन कटेगा कैसे ऐ मित्रदिल के जिस कोने में तुम थे, वह सदा के लिए सूना ही रहेगा न दिल खोल कर होंगी बातें, न मिलना ही होगाजाने … Continue reading गुज़रते हुए पल